जगन्नाथ मंदिर की कथा (भाग 02)

राजा इंद्रद्युम्न द्वारा सुगंधित वृक्ष का पता लगाने के बाद भी जगन्नाथ मंदिर की कहानी समाप्त नही होती । बल्कि उसके बाद इस कहानी में एक और मोड़ आया। आइए देखें कि वास्तव में क्या हुआ था...
jagannath202.jpg-174e1ac1.jpg

Incomplete deities being abandoned by Vishnu as the king enters

राजा समुद्र के किनारे पहुँचा और उसे सुगंधित वृक्ष मिला। तब नारद प्रकट हुए और राजा को सलाह दी कि वे इसमें से तीन देवता - कृष्ण, बलराम और सुभद्रा की मूर्तियां बनाए बनायें और उन्हें एक मंडप में रखें।

देवों के वास्तुकार, विश्वकर्मा, पेड़ से जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की छवियों को बनाने के लिए एक कारीगर के रूप में प्रकट हुए। उन्होंने देवताओं के निवास के लिए एक भव्य मंदिर भी बनवाया।

दिलचस्प बात यह है कि भगवान विष्णु स्वयं इस काम में मदद करने के लिए बढ़ई के रूप में प्रकट हुए। लेकिन एक शर्त पर - कि जब तक वे देवताओं पर काम पूरा नहीं कर लेते, तब तक कोई मूर्तियों की प्रगति देखने उनको मिलने न आए। और इस प्रकार काम शुरू हुआ।

लेकिन, दो सप्ताह के बाद, रानी चिंतित हो गईं, क्योंकि उन्हें मंदिर से कोई भी आवाज़ सुनाई नहीं दे रही थी। उसे उन्हें डर था कि कमजोर, बूढ़ा बढ़ई तोह नही गया? और इसलिए उसने उन्होंने राजा से दरवाजा खोलने का अनुरोध किया, जिससे बढ़ई द्वारा रखी गई शर्त टूट गई।

इसके कारण, विष्णु ने तब अपना काम छोड़ दिया और देवताओं को अधूरा छोड़कर तुरंत चले गए। देवता बिना किसी हाथ के थे, लेकिन एक दिव्य आवाज ने इंद्रद्युम्न को उन्हें मंदिर में स्थापित करने का निर्देश दिया।

और इस तरह उड़ीसा के पुरी में जगन्नाथ मंदिर अस्तित्व में आया।

यह कहानी The Eternal Epics™ के सहयोग से है। ऐसी और भी पौराणिक कहानियाँ आप उनके इंस्टाग्राम, यूट्यूब, फेसबुक औरवेबसाइट पर देख और पढ़ सकते हैं।

7 likes

 
Share your Thoughts
Let us know what you think of the story - we appreciate your feedback. 😊
7 Share