महाविद्याओं की उत्पत्ति की कहानी

महाविद्या दस देवियों का एक समूह है, देवी शक्ति की दस अलग-अलग अभिव्यक्तियाँ हैं, जो दस अलग-अलग दिशाओं की रक्षा करती हैं। तो आइए जानते हैं कैसे हुई दस महाविद्याओं की उत्पत्ति...
mahavidya-1.jpg-c88fe730.jpg

महाविद्याओं की उत्पत्ति की कहानी

ब्रह्मा के मानसपुत्र, राजा दक्ष की पुत्री सती ने दक्ष की इच्छा के विरुद्ध शिव से विवाह किया था। एक बार, दक्ष को एक यज्ञ करना था, और उन्होंने शिव को छोड़कर सभी देवताओं को आमंत्रित किया था।

आमंत्रित न करने पर भी सती ने जाने की ज़िद्द की। शिव ने उन्हें रोकने की पूरी कोशिश की क्योंकि वह जानते थे कि इसका परिणाम क्या होगा, और वह सती के लिए चिंतित थे। हालाँकि, सती ने उनकी एक नहीं सुनी।

वास्तव में, वह अपने पति पर और भी अधिक क्रोधित हुईं कि वह उन्हें ब्रह्मांड की माँ मानने के बजाय एक साधारण महिला मान रहे थे।

शिव को यह चीज़ समझाने के लिए, सती ने महाकाली का रूप धारण किया। काली के इस उग्र रूप को देख पहाड़ कांपने लग गए, ज्वालामुखी विस्फोट शुरू होगया और ऐसी कई अन्य प्राकृतिक आपदाएं शुरू हुईं।

यह देखकर शिव ने उनसे दूर जाने की कोशिश की, लेकिन अफसोस कि वह ऐसा नहीं कर सके। सती ने दस अलग-अलग दिशाओं में पहरा देने के लिए खुद को दस अलग-अलग रूपों में प्रकट किया था, इस प्रकार शिव के मार्ग को अवरुद्ध कर दिया था।

और इस तरह महाविद्याओं का जन्म हुआ।

यह कहानी The Eternal Epics के सहयोग से है। ऐसी और भी पौराणिक कहानियाँ आप उनके इंस्टाग्राम, यूट्यूब, फेसबुक औरवेबसाइट पर देख और पढ़ सकते हैं।

38 likes

 
Share your Thoughts
Let us know what you think of the story - we appreciate your feedback. 😊
38 Share